Fertilization and Placenta


Male gamete(sperm) तथा female gamete(ovum) के आपस में जुड़कर zygote के निर्माण की प्रक्रिया को fertilization कहते है। fertilization मुख्यता दो प्रकार के होते है । वह fertilization जो अंडे देने वाले animals (oviparous animals) के शरीर के बाहर (साधारणता जल में) होता है उसे external fertilization कहते है। वह fertilization जो viviparous animals के शरीर के अंदर सम्पन होता है उसे internal fertilization कहते है।

fertilization-in-hindi

Fertilization in hindi


Human female में अन्य स्तनधारियों के समान fertilization की प्रकिया fallopian tube के अंदर सम्पन होता है। Sexual intercourse के समय पुरुष का semen जिसमे करोड़ो spers होते है स्रियाँ के vagina में जमा होता है इस प्रक्रिया को insemination कहते है। ejaculation के समय लगभग 300 millions sperm female के vagina में जमा होते है,  लेकिन इनमे से कुछ hundred sperm ही fertilization के स्थान तक पहुँच पाते है। Sperm, female genital tract में बहुत तेजी के साथ तैरते है।


इनका वेग लगभग 1.5-3.00 mm प्रति मिनट होता है। एक पूर्ण विकसित अंडे से fertilizin नामक पदार्थ निकलता है जो egg के surface पर पाया जाता है। sperm के acrosome द्रारा भी एक sperm lysin निकाला जाता है जिसे anti fertilizin कहते है। यह egg के fertilizin के साथ reaction करके egg envelope अर्थात zona pellucida को गला देता है और एक मार्ग का निर्माण करता है जिसके दारा sperm, egg के सतह तक पहुँच जाता है। एक विकसित egg चारो ओर से follicular cells के समूह के द्वारा  घिरा होता है जिसे corona radiata कहते है। ये cells आपस में एक चिपचिपे जोड़ने वाले पदार्थ से जोड़े होते है जिसे hyaluronic acid कहते है।




Sperm का acrosome एक enzyme उत्पन करता है जिसे hyaluronidase कहते है जो corona radiata के cells को बिखरा देता है। जब sperm का acrosome, के सतह को छूता है तो egg का cytoplasm बाहर की ओर उभर कर एक – एक receptive cone या fertilization cone का निर्माण करता है जिसे animal pole कहते है इसके दारा sperm, egg के अंदर प्रवेश कर जाता है ।  अंत में egg का plasma membrane भी गल जाता है और sperm का nucleus female nucleus तक पहुँच जाता है और उसके साथ जुड़ कर diploid zygote का निर्माण करता है। fertilization के लिए sperm में होने वाले सभी परिवर्तन को capacitation कहते है। fertilization के तुरंत बाद egg के चारो ओर एक नए membrane का निर्माण हो जाता है जिसे fertilization membrane कहते है। यह देर से आने वाले sperm को egg में प्रवेश से रोकता है।  उपयुक्त features के आधार पर हम पाते है कि fertilization एक प्रकार का physico-chemical प्रकिया है।



Placenta in hind


Implantation के बाद trophoblast पर उंगली के समान उभारो का निर्माण होता है जिसे chorionic villi कहते है ये uterine tissue और maternal blood द्रारा घिर जाते है।  chorionic villi और uterine tissue आपस में interdigitated हो जाते है और मिलकर विकसित होने वाले embryo(foetus) और मां के शरीर के बीच रचनात्मक और क्रियात्मक इकाई का निर्माण करते है जिसे placenta कहते है।  यह placenta मां और गर्भ के बीच Respiratory gases। का आदान – प्रदान करता है गर्भ को पोषण प्रदान करता है और गर्भ से waste products को हटाता है/ umbilical नामक cord नलिका placenta को गर्भ के abdomen से जोड़ता है। 




Placenta, endocrine tissue के समान भी कार्य करता है और अनेको hormons का secretion करता है जैसे human chorionic gonadotropin(HCG), human placental lactogen(HPL), estrogens, progestrone etc. Pregnancy के अंतिम चरणों में placenta से relaxin नामक hormone भी निकलता है। स्त्रियों में HCG, HPL और relaxin नामक hormone केवल pregnancy के समय ही मुक्त होते है ।


Pregnancy के समय कुछ अन्य hormones जैसे estrogen, progesterone, corticol, prolactin, thyroxine etc का स्तर मां के blood में कई गुणा ज्यादा बढ़ जाता है। इन hormones के production में वृद्री गर्भ के विकास के लिए मां के matabolic changes के लिए और pregnancy के maintenance के लिए आवश्यक होता है।


Post a Comment

0 Comments